Wednesday, April 8, 2015

बहुत कुछ दांव पे लगाया है ॥

बड़ा मुश्किल उसे मनाया है ॥ 
बहुत कुछ दांव पे लगाया है ॥ 


किसे कहते कि बेवफा है वो ,
हँसा हम पे जिसे बताया है ॥ 


बसा दिल-ओ-दिमाग में वो ही ,
अचानक सामने जो आया है ॥ 


लगे ऐसा हमें खुदा ने उसे ,
हमारे के लिए बनाया है ॥ 


हुआ है एहसास जन्नत का , 
जो माँ ने गोद में सुलाया है ॥ 


कहाँ होशो-हवास की बातें ,
किसी पे जब शबाब आया है ॥ 


लगे है वो पवित्र गंगा सा ,
करिंदा जो पसीने से नहाया है ॥

3 comments:

  1. bahut bahut dhanyaavaad aadrniya shiv raj sharma ji :)

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...