Thursday, April 9, 2015

अल्लाह जो लिखे किस्मत की किताब में |

अल्लाह जो लिखे किस्मत की किताब में |
कोई  कमी  न  रहे  कभी  उस  हिसाब में ||

माना कि बहुत दिलकश अदा है जनाब में |
मालूम है  उसे  हम  भी  हैं  शबाब  में

ख़त  है  लिखा  उसे   इजहारे-इश्क  में पर ,
मै  जानता  हूँ  जो  वो  लिखेंगे जवाब  में||

उनसे  जुदा  हुआ , जिंदगी ही बिखर गई ,
बस   ढूंढता  रहा   उनको   मै  शराब  में ||

पाया   क्या  ,क्या   खोया  है   इश्क   में.
उलझा  रहूँ  इसी  अनसुलझे  हिसाब  में |

उसने  दिया  कभी  नजराना -ए- उंस मुझे,
है आज भी महक उस सूखे गुलाब में ||

वादा  करो  अगर  मुझसे  तो "नजील"मैं,
सोया   रहूँ  उम्र  भर  तेरे  ख्वाब  में

7 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 16-4-2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1948 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bahut bahut dhnayaavaad dilbag virk ji .

      Delete
  2. बहुत खूब अंदाजे बयां ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. hardik aabhar aadrniyaa kavita rawat ji aapko mera andaaze- byaan pasand aaya .

      Delete
  3. सुन्दर प्रस्तुति .बहुत खूब,.आपका ब्लॉग देखा मैने कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete
    Replies
    1. hausla dene ke liya shukriya madan saxena ji .....

      Delete
  4. सुन्दर प्रस्तुति :))

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...