Tuesday, February 21, 2012

करके दिन रात बन्दगी खुदा से

करके दिन रात बन्दगी खुदा से ||
मांगी  अपनी ज़िन्दगी खुदा से ||
 

डर कैसा है मौत का अब हमें ,
जब है अपनी दोस्ती खुदा से ||
 

इस उम्मीद पर जिन्दा रहे हम
कि वस्ल होगा लाज़मी खुदा से ||
 

छोड़ खुदा को पूजें आदमी को ,
अब ऊंचा हुआ आदमी खुदा से ||
 

बख्श दी है हस के "नजील" हमको,
मांगी थी जो सादगी खुदा से

2 comments:

  1. आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा मंच-798:चर्चाकार-दिलबाग विर्क>

    ReplyDelete
  2. सुन्दर !!
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...